आचार्य रामचंद शुक्ल का साहित्यिक परिचय: इतिहास दृष्टि, रचनाएँ, निबंध शैली, आलोचना पद्धति और हिन्दी साहित्य में योगदान

Aacharya Ramchandra Shukla ka Sahityik parichay

आचार्य रामचंद्र शुक्ल हिन्दी साहित्य के महान इतिहासकार और आलोचक हैं। यदि शुक्ल जी ने ‘हिंदी साहित्य का इतिहास‘ नहीं लिखा होता तो सम्भवतः साहित्येतिहास लेखन की मार्गदर्शिनी परम्परा की नींव नहीं पड़ी होती। ‘हिंदी साहित्य का इतिहास’ से पूर्व हिंदी गद्य में लिखा हुआ हिंदी साहित्य का कोई इतिहास-ग्रंथ प्राप्त नहीं होता है। आचार्य …

Read more

error: Content is protected !!