चेकलिस्ट क्या होता है? चेकलिस्ट का प्रयोग: Checklist in Hindi

मूल्यांकन के कई उपकरण है, उनमें से एक चैक लिस्ट भी है. शिक्षण कार्य के मूल्यांकन के लिए कई उपकरण का प्रयोग किया जाता है, उनमें से सबसे अधिक प्रयोग किये जाने वाले उपकरण में, चेक लिस्ट भी है. यह विभिन्न स्तरों पर किसी विशेष कौशल या प्रक्रिया का दायरा विश्लेषण करने के लिए बहुत ही सरल और उपयोगी उपकरण होता है. तो आज मैं आपसे चेकलिस्ट क्या होता है? के बारे में बात करेंगे.

चेकलिस्ट क्या होता है?

चेकलिस्ट एक मूल्यांकन उपकरण है. इसका प्रयोग प्रश्नावलियों और अनुसूचियों की तरह ही किया जाता है. इसमें जिस विषय का अध्ययन करना है, उससे सम्बंधित पदों की एक सूची तैयार कर ली जाती है.

इन पदों को प्राप्त की जाने वाली जानकारी के अनुसार वर्गों में वर्गीकृत कर उपसमूहों में लिख लिया जाता है. इन उपवर्गों को चेकलिस्ट में तार्किक या मनोवैज्ञानिक क्रम में लिख लिया जाता है. प्रत्येक प्रश्न के सामने कुछ जगह छोड़ दी जाती है. जिसमें उत्तरदाता हाँ, ना पर चिन्ह लगाकर या संक्षेप में लिखकर अपना उत्तर देता है.

चेकलिस्ट का प्रयोग

  • इसका उपयोग प्रश्नावली और अनुसूची की तरह ही किया जाता है.
  • इसमें उत्तर शोधकर्त्ता स्वयं भी लिख सकता है या उत्तरदाता से लिखवा भी सकता है.
  • इसका प्रयोग वहां करते हैं, जहाँ केवल तथ्यों को जानना हो या केवल वस्तु-स्थिति की जानकारी प्राप्त करनी हो.
  • या कहीं यह ज्ञाट करना हो कि वस्तु-स्थिति कैसी है, तो चेकलिस्ट एक बहुत सरल एवं सुविधाजनक साधन उपलब्ध कराती है.
  • ऐसी स्थितियों में जहाँ निर्णय अध्ययन का उद्देश्य हो, वहां चेक लिस्ट का प्रयोग उपयुक्त नहीं होता. इसमें निरीक्षणों का आलेखन सुव्यवस्थित व सरल होता है.
  • निरीक्षित किये गए तथ्य एवं कार्य के समस्त महत्वपूर्ण पक्षों की जानकारी विचार-विमर्श के लिए उपलब्ध हो जाती है. इसी कारण सर्वेक्षण में इसका बहुतायत से प्रयोग होता है.
  • यदि यह ज्ञात करना हो कि किसी विद्यालय की प्रयोगशाला में कौन-कौन से उपकरण हैं, तो उसमें वांछित उपकरणों की एक सूची बना लेते हैं.
  • इस सूची को स्कूल के प्रयोगशाला रक्षक को देकर, उससे हर पद पर चिन्ह लगवा लिया जाता है. इस तरह चेक लिस्ट, प्रश्नावलियों और अनुसूचियों का ही एक विशिष्ट रूप है.
  • चेकलिस्ट का प्रयोग व्यक्तित्व एवं व्यवहार की विशेषताओं की जानकारी के लिए भी किया जा सकता हैं. इस अवस्था में पद कथनों अथवा विश्लेषणों के रूप में होते हैं तथा उत्तरदाता इन कथनों को चिन्हित करता है.

चेकलिस्ट निर्माण हेतु उपयोगी संकेत

  • शैक्षिक अनुसन्धान के लिए विशेषज्ञों द्वारा प्रयुक्त चेकलिस्ट का निरीक्षण कर लेना चाहिए.
  • जिस क्षेत्र या विषय में अध्ययन करना है, उसके सम्बन्ध में पदों का निर्माण करें.
  • पदों के उपवर्गों को तर्कसंगत और मनोज्ञानिक क्रम में व्यवस्थित करें.

चेकलिस्ट कैसे बनाये?

इस उपकरण में पदों को अनेक रूप में व्यवस्थित किया जा सकता है.

वह पद जिसमें उत्तरदाता या शोधकर्त्ता हर पद के सामने (✓) का चिन्ह लगाता है, जैसे आपके विद्यालय में जो-जो कार्यक्रम होते हैं, उन पर (✓) का चिन्ह लगाइए,

  • स्पोर्ट्स (खेल-कूद प्रतियोगिता)                                              (….)
  • वाद-विवाद प्रतियोगिता                                                          (✓)
  • सांस्कृतिक कार्यक्रम                                                              (….)
  • एन.सी.सी                                                                               (✓)

दुसरे प्रकार से उत्तरदाता हर पद में हाँ/नहीं के सामने (✓) चिन्ह लगाता है, जैसे आपके विद्यालय में होने वाले कार्यक्रम में (✓)का चिन्ह लगाइए,

  • वाद-विवाद प्रतियोगिता                                                          हाँ / नहीं
  • स्पोर्ट्स (खेल-कूद प्रतियोगिता)                                              हाँ / नहीं
  • सांस्कृतिक कार्यक्रम                                                              हाँ / नहीं
  • एन.सी.सी.                                                                            हाँ / नहीं

तीसरे प्रकार के चेकलिस्ट में उत्तरदाता (✓) या (x) का चिन्ह लगाता है, जैसे

  • विद्यालय में भोजन मिलती है.                                                    (✓)
  • प्रतिदिन विद्यालय में साफ-सफाई होती है.                                 (x)
  • विद्यालय में प्रतिदिन प्रार्थना होती है.                                           (✓)
  • प्रत्येक सप्ताह टेस्ट होता है.                                                       (x)

इसे भी पढ़ें: पोर्टफोलियो क्या होता है?

 

Leave a Comment

error: Content is protected !!