ओलंपिक खेल (Olympic Game) क्या हैं? ओलंपिक खेल की शुरुआत कब और कहाँ हुई? ओलंपिक खेलों का नाम, उद्देश्य

हम अक्सर न्यूज चैनल, अखबारों में ओलंपिक खेलों (Olympic Games) के बारे में सुनते हैं. ओलंपिक शब्द सुनकर हमारे मन सवाल आता है कि आखिर ओलंपिक खेल क्या होता हैं? तो आज हम जानेंगे ओलंपिक खेल क्या है? ओलंपिक खेल की शुरुआत कब और कहाँ हुई? ओलंपिक खेलों का उद्देश्य क्या है? ओलंपिक खेल में कौन-कौन सा खेल आता है? 

ओलंपिक खेल क्या है?

ओलंपिक खेल, एक तरह का प्रतियोगिता खेल है,  जिसमें हज़ारों एथलीट कई देशों से अलग-अलग खेलों में भाग लेते हैं. साधारण शब्दों में कहे तो, ओलंपिक एक ऐसा प्रतियोगिता खेल है, जिसमें केवल दो गुट नहीं, बल्कि कई देश शामिल होते हैं.

जिस देश का खिलाड़ी इस प्रतियोगिता खेल, ओलंपिक खेल में विजयी घोषित होता है, उन्हें उनके द्वारा प्राप्त स्थान के हिसाब से पदक से नवाजा जाता है. ओलंपिक खेल में मुख्यतः 3 प्रकार के पदक (medal) दिए जाते हैं, स्वर्ण पदक, रजत पदक और कांस्य पदक. इस खेल में भाग लेने वाले खिलाड़ी अपने देशों का प्रतिनिधित्व करते हैं. ओलंपिक खेल प्रत्येक 4 वर्ष के अंतराल में आयोजित किया जाता है.

ओलंपिक खेल की शुरुआत कब और कहाँ हुई?

ओलंपिक खेल की शुरुआत वर्ष 1896 में ‘ग्रीस’ में हुई. सबसे पहले ग्रीस की राजधानी ‘एंथेस’ में ग्रीष्मकालीन ओलंपिक खेल, खेला गया था. तब से ओलंपिक खेल का आयोजन प्रत्येक चार वर्ष के अंतराल में किया जा रहा है.

एथेंस ओलंपिक खेलों में 14 देशों के 200 एथलीटों ने 43 अलग-अलग मुकाबलों में हिस्सा लिया था और उसके बाद के ओलंपिक में अन्य देशों की भागीदारी और बढ़ने लगी. वर्त्तमान में कई देशों के एथलीट ओलंपिक खेल में भाग लेकर, अपने देश का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं. 

ओलंपिक खेल कितने प्रकार के होते हैं?

ओलंपिक खेल 4 प्रकार के होते हैं, ग्रीष्मकालीन ओलंपिक, शीतकालीन ओलंपिक, पैराओलंपिक, यूथ ओलंपिक

ग्रीष्मकालीन ओलंपिक

ग्रीष्मकालीन ओलंपिक्स को समर ओलंपिक्स (Summer Olympics) भी बोलते हैं. इसके नाम से हीं पता चल रहा है कि यह खेल गर्मियों के दिनों में खेला जाता है. समर ओलंपिक खेल से ओलंपिक की शुरुआत हुई है. सबसे पहले ग्रीष्मकालीन ओलंपिक वर्ष 1896 में ग्रीस की राजधानी एथेंस में खेला गया था. तब से लेकर आज तक हर चार वर्ष के अंतराल में ओलंपिक खेल आयोजित किया जा रहा है.

शीतकालीन ओलंपिक

इसे वींटर गेम्स (Winter Games) भी बोलते हैं. क्योंकि इसे सर्दियों के मौसम में खेला जाता है. इस ओलंपिक को पहली बार 1924 में फ्रांस की राजधानी ‘पेरिस’ में खेला गया था . हालांकि पहले ग्रीष्मकालीन और शीतकालीन गेम्स दोनों को एक-साथ खेला जाता था. बाद में इन दोनों को अलग-अलग आयोजित किया जाने लगा.

पैराओलंपिक

यह गेम ग्रीष्मकालीन और शीतकालीन ओलम्पिक्स से थोड़ा अलग है. इसमें भाग लेने वाले खिलाड़ियों में केवल दिव्यांग होते हैं. पैराओलंपिक को पहली बार 1960 में इटली के रोम शहर में आयोजित किया गया था. इसमें 23 देशों के करीब 400 एथलीट शामिल हुए थे.

यूथ ओलंपिक

इस खेल को भी हर चार वर्ष के अंतराल में आयोजित किया जाता है. जिसमें 18 साल से कम उम्र के बच्चे शामिल होते हैं, यह खेल को सर्वप्रथम 2010 में सिंगापूर में आयोजित किया गया था.

ओलंपिक खेलों का उद्देश्य 

  • ओलंपिक खेल का मुख्य उद्देश्य, खेलों के माध्यम से विभिन्न देशों के बीच आपसी भाईचारा और बंधुत्व की भावना को बनाये रखना है.
  • खेलों के माध्यम से विश्व के कई देशों को एकजुट रखना.
  • सभी देशों के लोग अपनी अन्दर की प्रतिभा को विश्व के समाने दिखा पायेंगे.
  • युवाएं खेल की दुनिया में भी अपनी पहचान बना पायेंगे और सम्मान प्राप्त कर पायेंगे.
  • खेल के क्षेत्र में भी लोग करियर संवार सकते हैं.

ओलंपिक खेल में कौन-कौन सा खेल आता है?

ओलंपिक के अंतर्गत में कई खेल आते है, जैसे- बैडमिन्टन, बास्केट बॉल, हॉकी, वालीबॉल, फुटबाल, तीरंदाजी, वेट लिफ्टिंग, एथलेटिक्स, टेबल टेनिस, कराटे, जुडो, बॉक्सिंग, साइकिलिंग, ड्राइविंग, घुड़सवारी, ताइक्वांडो, तैराकी, मैराथन तैराकी, गोताखोरी, शूटिंग आदि.

ओलंपिक खेल के जन्मदाता कौन हैं?

ओलंपिक खेल का जन्मदाता पियरे डे कोबर्टिन को माना जाता है. इन्होंने अंतर्राष्ट्रीय ओलंपिक समिति की स्थापना 23 जून, 1894 को किया था. जिसका मुख्यालय इन्होंने स्विट्जरलेन्ड को बनाया. अंतर्राष्ट्रीय ओलंपिक समिति के प्रथम अध्यक्ष डेमेट्रियस विकेलस को बनाया गया थ.

इसे भी पढ़ें :- जीवन में खेल कूद के महत्व पर निबंध 

Leave a Comment

error: Content is protected !!