स्टेनोग्राफर का मतलब: Stenographer Kaise Bane? स्टेनोग्राफर क्या काम करता है?

कई सरकारी और गैर-सरकारी संस्थान, अदालत, कॉलेज में स्टेनोग्राफर होता है. स्टेनोग्राफर अदालत में बोले गए बातों (वाद-विवाद) को तेज गाति में कंप्यूटर पर लिखता है. आज के समय में अधिकांश स्टूडेंट्स स्टेनोग्राफी के रूप में करियर बनाना चाहते हैं, लेकिन आशुलिपिक बनना इतना आसान नहीं है. तो आज हम आपसे इसी के बारे में बात करेंगे कि Stenographer Kaise Bane? स्टेनोग्राफर बनने के लिए योग्यता क्या होना चाहिए?

स्टेनोग्राफी एक भाषा है, इसे कोडिंग या शॉर्ट हैंड भी कहा जाता है. जो व्यक्ति स्टेनोग्राफी करता है, उसे स्टेनोग्राफर कहा जाता है. सभी सरकारी और गैर-सरकारी संस्थानों, अदालतों अखबार कार्यालयों में स्टेनोग्राफर का पोस्ट होता है. यह लोगों द्वारा दिए गए भाषण या वाद-विवाद को टाइपराइटर मशीन की सहायता से कम समय में ठीक उसी तरह से लिखता है, जिस तरह से बात या भाषण बोला गया हो. स्टेनोग्राफर की नियुक्ति कर्मचारी चयन आयोग करता है.

स्टेनोग्राफर का मतलब क्या होता है?

स्टेनोग्राफर का मतलब ‘आशुलिपिक’ होता है. जो व्यक्ति अदालतों, संस्थाओं, कॉलेजों में किसी व्यक्ति के द्वारा दिए गए भाषण को उसी तरह से कम समय में टाइपराईटर की सहायता से तेज गाति में लिखता है, उसे स्टेनोग्राफर कहा जाता है. जैसे, अदालत में जब किसी विषय पर वाद-विवाद हो रहा होता है, तब स्टेनोग्राफर लोगों के बीच हो रहे बातचीत को उसी तरह से टाइपराइटर की सहायता (Shorthand) से कम समय में लिखता है.

Stenographer ke Liye Qualification

  • उम्मीदवार किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से किसी भी स्ट्रीम में बारहवीं पास हो.
  • और किसी मान्यता प्राप्त यूनिवर्सिटी से किसी भी सब्जेक्ट में ग्रेजुएशन पास होना चाहिए.
  • इसके लिए ग्रेजुएशन डिग्री अनिवार्य होता है.
  • उम्मीदवार को स्टेनोग्राफी का ज्ञान (Steno Typing) होना चाहिए.

स्टेनोग्राफर के लिए योग्यता 

  • अभ्यर्थी किसी मान्यता प्राप्त संस्थान से किसी भी विषय में स्नातक पास होना चाहिए.
  • और अभ्यर्थी को स्टेनो टाइपिंग का ज्ञान होना चाहिए.
  • टाइपिंग स्पीड हिंदी भाषा में प्रति मिनट 80 शब्द होनी चाहिए.
  • और अंग्रेजी में भी 80 शब्द प्रति मिनट होनी चाहिए.
  • आवेदक का न्यूनतम उम्र 18 वर्ष और अधिकतम उम्र 27 वर्ष होना चाहिए..

स्टेनोग्राफर बनने के लिए क्या करें?

  • स्टेनोग्राफर बनने के लिए आपको किसी मान्यता प्राप्त यूनिवर्सिटी से किसी भी सब्जेक्ट में ग्रेजुएशन डिग्री प्राप्त करना होगा.
  • और स्टेनो टाइपिंग सीखना होगा, इसके लिए स्टेनो टाइपिंग कोर्स होता है.
  • स्टेनो टाइपिंग सीखने के लिए आप किसी सरकारी Polytechnic या ITI कॉलेज में एडमिशन ले सकते हैं.
  • या सरकार द्वारा मान्यता प्राप्त किसी निजी संस्थान में भी प्रवेश ले सकते है.
  • टाइपिंग कोर्स पूरा होने के बाद टाइपिंग की स्पीड बढाने पर ध्यान देना होगा.
  • हिंदी टाइपिंग की गाति प्रति मिनट 80 शब्द एवं अंग्रेजी टाइपिंग की स्पीड भी प्रति मिनट 80 शब्द होना चाहिए.

Stenographer Kaise Bane?

  • स्टेनोग्राफर बनने के लिए सबसे पहले आपको ग्रेजुएशन डिग्री प्राप्त करना होगा.
  • ग्रेजुएशन पास करने के बाद Stenographer Job के लिए आवेदन करना होगा.
  • समय-समय पर सरकारी संस्थानों में स्टेनोग्राफर की रिक्ति पदों की भर्ती के लिए एसएससी Notification जारी करता है.
  • जब एसएससी स्टेनोग्राफर की भर्ती के लिए आवेदन फॉर्म जारी करता है, तब ऑनलाइन अप्लाई करना होगा.
  • एप्लीकेशन फॉर्म भरने के बाद लिखित परीक्षा होता है, यह परीक्षा अच्छे अंकों में उत्तीर्ण करना होगा.
  • लिखित परीक्षा पास करने वाले अभ्यर्थियों को Steno Typing Test के लिए बुलाया जाता है. .
  • टाइपिंग टेस्ट में सफल अभ्यर्थियों की नियुक्ति  स्टेनोग्राफर पोस्ट के लिए होता है.

स्टेनोग्राफर की सैलरी कितनी होती है? 

एक स्टेनोग्राफर की सैलरी 5200 रूपये से 20200 रूपये प्रतिमाह होता है. सरकारी और निजी संस्थानों में स्टेनोग्राफर का सैलरी अलग-अलग होता है.

स्टेनोग्राफर का सिलेक्शन प्रोसेस 

एसएससी (कर्मचारी चयन आयोग) स्टेनोग्राफर भर्ती परीक्षा का आयोजन दो चरणों में करता है.

Written Exam (लिखित परीक्षा) : यह प्रथम चरण का परीक्षा होता है. इसमें सामान्य ज्ञान, सामान्य अंग्रेजी, हिंदी, गणित और रीजनिंग विषय का प्रश्न होता है. सभी प्रश्न ऑब्जेक्टिव टाइप का होता है, चार विकल्प दिया जाता है, जिनमें से एक सही विकल्प को चुनकर उत्तर देना होता है.

Typing Test (आशुलिपिक परीक्षा): लिखित परीक्षा में उत्तीर्ण अभ्यर्थियों को स्टेनो टाइपिंग टेस्ट के लिए बुलाया जाता है. जिनका टाइपिंग टेस्ट ठीक होता है, उनका  चयन स्टेनोग्राफर के लिए होता है.

Stenographer ki Taiyari Kaise Kare?

  • लिखित परीक्षा की तैयारी के लिए एग्जाम पैटर्न और सिलेबस जानना होगा.
  • उसके बाद समय-सारणी बनाकर सभी सब्जेक्ट का पढाई करना होगा.
  • पिछले वर्ष का एग्जाम पेपर ढूंढे और अभ्यास करें.
  • Current Affairs को फोकस कीजिए.
  • परीक्षा की बेहतरीन तैयारी के लिए कोचिंग इंस्टिट्यूट में एडमिशन ले सकते है.
  • टाइपिंग स्पीड बढाने के लिए प्रतिदिन टाइपिंग करना होगा.

इसे भी पढ़ें: Gram Sachiv Kaise Bane?

Leave a Comment

error: Content is protected !!